Prahlad Tandon

Posts

17 POSTS

Comments

0 COMMENTS

Social

मजदूरों द्वारा शहरों से गांव की ओर लौटना इसको उत्क्रम पलायन (Reverse Migration) कहा जा सकता है जिससे नई समस्या की शुरूआत...
आज पत्रकारिता को एक आन्दोलन के जरिए परिसंचरण व पुर्नजीवन की आवश्यकता है। भारतवर्ष आज हिन्दी पत्रकारिता दिवस मना...
बाहरी दबाव व खतरे बढ़ते जा रहे हैं और अपने अर्द्ध सैनिक बल में पूर्ण साहस व विश्वास की आवश्यकता है...
सड़क जिस पर वो भाग रहा है, अगर नहीं भागेगा तो वो सड़क भाग जायेगी। जिस खुले आसमान के नीचे वो...
जो विज्ञान स्वदेशी होने पर हमारा दास होता है, वह विदेशी होने के कारण हमारा प्रभु बन बैठता है। अब समय आ...
विश्व के इसी तरह सभी महान बांसुरी वादक अपने आपको शान्ति का महान पुरस्कार व रत्न से समय-समय पर पुरस्कृत कराते हुए...

Recent posts

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद – भारत अस्थाई सदस्य

भारत की अपनी 75 वीं स्वतंत्रता वर्षगांठ पर सुरक्षा परिषद की अस्थाई सदस्यता को स्थाई सदस्यता में बदले जाने का सुअवसर एक...

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020

आज विश्व भी इस बात को जान चुका है वर्तमान सामाजिक, विश्व परिदृश्य में अंतिम विकल्प हमारी सनातन, वैदिक, सांस्कृतिक, संस्कृति ही...

हिन्दी-चीनी बाय-बाय

भारत-चीन विवाद 2020-लद्दाख की गलवान घाटी में भारत को आर्थिक, व्यापारिक, सांस्कृतिक, कूटनीतिक व सीमा पर सामरिक, सैन्य चैतरफा रणनीति के सभी...

रणभेरी

शमशीरें गिरा नहीं करतीमैदाने जंग मेंतिरंगा लहरायेगासरहद के पहाड़ों पे ।। शमशीर जो बैठातख्त परथामे तिरंगाप्रहरी सीमा पर बैठाशीश...

महत्वाकांक्षी आत्मनिर्भर भारत

ये हैं इस देश की धरती के सपूत और ये वो सपूत हैं जो सिर्फ पढ़े लिखे ही नहीं हैं बल्कि डाॅक्टर...

Recent comments

Devesh shukla on रणभेरी
Dharmesh Kumar Singh on प्रवासी पलायन
Mahendra Bahadur Singh Advocate Unnao on ज़कात
Deepak Kumar choudhary on लोकल – वोकल
Dharmesh singh on लोकल – वोकल
वृषभ प्रसाद जैन on आ अब लौट चलें
Atul Kumar Mehrotra on ज़कात
Arpit seth on ज़कात
Dharmendra Bhadauria on काल
Dharmendra Bhadauria on ज़कात
Mahesh Tripathi on ज़कात
Vaibhav Mehrotra on काल